मंगलवार, 2 फ़रवरी 2021

ठहरे हुए पल - -

दो चाय की प्यालियां रखी
हैं मेज़ के दो किनारे,
पड़ी सी है बेसुध
कोई मरू
नदी
दरमियां हमारे, तुम्हारे -
ओंठों पे आ कर
रुक जाती हैं
मृगतृष्णा,
पलकों
के आसपास बिखर जाते
हों जैसे सितारे, मैं
ख़लाओं में
तलाशता
हूँ
शब्दों के बिखरे कण, तुम
निःशब्द चले आ
रहे हो मेरी रूह
के किनारे,
बढ़ती
हुई उंगलियों में है कहीं - -
एक हिचकिचाहट,
मुद्दतों के बाद
जी उठे हैं,
सभी
हिमनद के धारे, दूर
वादियों में कहीं,
चिमनी से
उठ रहा
है
धुआं, फिर मैं बढ़ चला
हूँ तुम्हारे सिम्त
ख़्वाब के
सहारे,
कई
शताब्दियों से ठहरा हुआ
हूँ, उसी एक बिंदु पे,
जिस सीप के
सीने पर
दो बूंद
अश्रु
गिरे थे तुम्हारे।

* *
- - शांतनु सान्याल


 


 

26 टिप्‍पणियां:

  1. कई
    शताब्दियों से ठहरा हुआ
    हूँ, उसी एक बिंदु पे,
    जिस सीप के
    सीने पर
    दो बूंद
    अश्रु
    गिरे थे तुम्हारे।

    वाह... बहुत ख़ूब

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (03-02-2021) को  "ज़िन्दगी भर का कष्ट दे गया वर्ष 2021"  (चर्चा अंक-3966)
     
     पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  4. कुछ कहे
    कुछ अनकहे
    अहसासों की
    अनुभूति कराती खूबसूरत कृति..

    जवाब देंहटाएं
  5. कई
    शताब्दियों से ठहरा हुआ
    हूँ, उसी एक बिंदु पे,
    जिस सीप के
    सीने पर
    दो बूंद
    अश्रु
    गिरे थे तुम्हारे।

    बहुत सुंदर रचना....

    जवाब देंहटाएं
  6. बेहतरीन रचना हृदय स्पर्शी भाव

    जवाब देंहटाएं
  7. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 3 फरवरी 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  8. कई
    शताब्दियों से ठहरा हुआ
    हूँ, उसी एक बिंदु पे,
    जिस सीप के
    सीने पर
    दो बूंद
    अश्रु
    गिरे थे तुम्हारे।
    वाह!

    जवाब देंहटाएं
  9. शताब्दियों से ठहरा हुआ
    हूँ, उसी एक बिंदु पे,
    जिस सीप के
    सीने पर
    दो बूंद
    अश्रु
    गिरे थे तुम्हारे।
    सुंदर अभिव्यक्ति!--ब्रजेंद्रनाथ

    जवाब देंहटाएं
  10. गज़ब! निशब्द करता लेखन।
    एहसास और संवेदना से सुशोभित।
    साधुवाद।
    दूर बादलों के पार साथ चलता रहा कोई
    साथ चलते कमी हम-कदम की रह गई ।।

    जवाब देंहटाएं

अतीत के पृष्ठों से - - Pages from Past