गुरुवार, 14 जनवरी 2021

अंदर कुछ और बाहर कुछ - -

मृत नदी के दोनों तट पर खड़े हैं
निशाचर, सुदूर बांस वन में
अग्नि रेखा सुलगती सी,
कोई नहीं रखता
यहाँ दीवार
पार की
ख़बर,
नगर कीर्तन चलता रहता है - -
अपनी जगह, शब्दों में हैं
तथागत, उत्पीड़न
घर के अंदर,
छींके पर
रखे हैं,
सभी ख़्वाबों के खिलौने, बिल्ली
की तरह लोग देखा किए
आठों पहर, सोचने
से कहीं गिरता
है, नीचे
नीला
आकाश, ज़रा सी हलचल में,थम
सा गया सारा शहर, मैं छोड़
आया था, सब कुछ
समुद्र के किनारे,
बिन छुए ही
लौट गई
तेज़
वो मझधार की लहर, कोई किसी
का सर दर्द नहीं लेता,
मेरे दोस्त, बाहर
से हर कोई
है सजल,
अंदर
से लेकिन बेअसर, मृत नदी के
दोनों तट पर खड़े हैं -
निशाचर।

* *
- - शांतनु सान्याल
 

 

28 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 15-01-2021) को "सूर्य रश्मियाँ आ गयीं, खिली गुनगुनी धूप"(चर्चा अंक- 3947) पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन  में" आज गुरुवार 14 जनवरी 2021 को साझा की गई है.........  "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति।
    मकर संक्रान्ति का हार्दिक शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  4. अत्यंत भावपूर्ण । शुभकामनाएँ ।

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह! बहुत सुंदर भावपूर्ण कविता।

    जवाब देंहटाएं
  6. सुंदर रचना आदरणीय शांतनु जी

    जवाब देंहटाएं
  7. दुर्दिन समय की नब्ज टटोलती भावपूर्ण रचना
    वाह
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
  8. लौटती लहर क्या कुछ नहीं समेटे है खुद में

    जवाब देंहटाएं
  9. कोई किसी
    का सर दर्द नहीं लेता,
    मेरे दोस्त, बाहर
    से हर कोई
    है सजल,
    अंदर
    से लेकिन बेअसर, मृत नदी के
    दोनों तट पर खड़े हैं -
    निशाचर।----- बहुत सराहनीय

    जवाब देंहटाएं

अतीत के पृष्ठों से - - Pages from Past