Saturday, 20 April 2019

आख़िरकार - -

सुबह और शाम के दरमियां बहुत कुछ
बदल ही जाता है, कुछ मुरझाए फूल
गुलदान में झुके रहते हैं और
परिश्रांत सूरज अन्ततः
ढल  ही जाता है।
अब किस से
कहें दिल
की
बात, तन्हाइयों में ये ख़ुद ब ख़ुद बहल
ही जाता है। यूँ तो सारा शहर है
उजाले में डूबा हुआ, फिर भी
अँधेरे का जादू चल ही
जाता है। हमने
लाख चाहा
कि
तुम्हारा इंतज़ार न करें, फिर भी, हर -
एक आहट में, नादां दिल बेवजह
मचल ही जाता है। सुबह और
शाम के दरमियां बहुत
कुछ बदल ही
जाता
है।

* *
- शांतनु सान्याल

Thursday, 11 April 2019

पलातक - -

कब तक यूँ ही फ़रारी का स्वांग रचोगे,
आईने के सामने हर शख़्स है, इक
अदद नंगा सच, चाहे जितना
भी पहन लो रंग गेरुआ,
सिद्धार्थ फिर भी
क्या बन
सकोगे। नियति की ज्यामिति में, क्या
राजा, क्या रंक, हर कोई है बंधा
निमिष मात्र से, अदृश्य -
प्रहार से चाह कर
भी बच न
सकोगे। कुछ बूंद मेरी निगाह के, कुछ 
नूर तेरी चाह के, बहुत कुछ हैं ये
ज़िन्दगी के लिए, चाहतों का
क्या आसमान भी कम
सा लगे है, चार
दिन की है
चांदनी,
उम्र भर इन्हें सहेज कर कहाँ रखोगे। - -
चाहे जितना भी पहन लो रंग
गेरुआ, सिद्धार्थ फिर भी
क्या बन सकोगे।
* *
- शांतनु सान्याल  
 

अतीत के पृष्ठों से - -