Wednesday, 30 April 2014

आख़री पहर - -

न जाने क्यों वो सो न सका 
रात भर, मुझ से मिलने 
के बाद, चाँद भी 
उभरा 
हमेशा की तरह बादलों से 
आख़री पहर, गुम सी 
रही कशिश गुलों 
की, न जाने 
क्यूँ - 
खिलने के बाद, गुमशुदा - - 
सी चाँदनी, आसमां 
भी रहा जलता 
बुझता 
तमाम रात, बेअसर से रहे 
फिर भी, न जाने क्यूँ 
दिल के जज़्बात,
बूँद बूँद ओस 
पिघलने 
के - 
बाद,  न जाने क्यों वो सो - - 
न सका रात भर, मुझ 
से मिलने के 
बाद, 

* * 
- शांतनु सान्याल 





http://sanyalsduniya2.blogspot.com/
still-life-tulips

4 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 01-05-2014 को चर्चा मंच पर दिया गया है
    आभार

    ReplyDelete
  2. prem mein pagi acchi abhivyakti

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  3. रही कशिश गुलों
    की, न जाने
    क्यूँ -
    खिलने के बाद, गुमशुदा - -
    सी चाँदनी, आसमां
    भी रहा जलता
    बुझता

    बेहतरीन।

    ReplyDelete
  4. असंख्य धन्यवाद - - माननीय मित्रों - - नमन सह

    ReplyDelete

अतीत के पृष्ठों से - -