Friday, 19 July 2013

नज़र मिला - -

नज़र मिला कि फिर ये रंगीन ख़्वाब रहे न रहे,

उठ रहें हैं, पहाड़ों में धुंध के बादल रह रह कर,
किसे ख़बर ये जादुवी, हसीं माहताब रहे न रहे,

अभी तो है, हमारी वफ़ा सादिक़ ओ ख़ूबसूरत,
न जाने सुबह तलक यूँ ही लाजवाब रहे न रहे,

ये आईना भी है, हम पे फ़िदा दिल ओ जां से - 
कल किसने है देखा ये नूर ओ शबाब रहे न रहे,
* * 
- शांतनु सान्याल 

artist nora kasten