Friday, 21 September 2012

अधूरा सफ़र - -


बहोत मिन्नतों के बाद हासिल थी दुआओं 
की रात, बाहम निकले थे दूर लेकिन 
मंज़िल पा न सके, बहोत
नज़दीक थी ख़्वाब
ओ ख़याल की 
दुनिया,
महज़ दस्तकों से लौट आईं दिल की बात -
चाहा लाख लेकिन दर्द अपना उसे 
दिखला न सके, चार क़दम 
थी तोहम आस्ताना, 
उसपार फिर भी 
जा न सके, 
बाहम निकले थे साथ साथ किसी अजनबी 
सफ़र में, रात गुज़री, दिन बीते,
मौसम ने बदली करवटें,
उम्र ने ओढ़ा झुर्रियों 
का लबादा, 
बहोत
क़रीब सांस रोके रही ज़िन्दगी, न जाने क्यूँ 
फिर भी उसे अपना बना न सके - - 

- शांतनु सान्याल  
http://sanyalsduniya2.blogspot.com/
बाहम - दोनों 
तोहम आस्ताना - मायावी दहलीज़ 
no idea about painter 2

8 comments:

  1. Thank you Shantanu da for posting the meanings of difficult words in your poems. Now, we can enjoy it double.
    :))

    ReplyDelete
  2. असंख्य धन्यवाद प्रिय मित्रों - - नमन सह

    ReplyDelete
  3. मौसम ने बदली करवटें,
    उम्र ने ओढ़ा झुर्रियों
    का लबादा,
    बहोत
    क़रीब सांस रोके रही ज़िन्दगी, न जाने क्यूँ
    फिर भी उसे अपना बना न सके

    Wah kya khoob likha hai .

    ReplyDelete
  4. Howdy! This article couldn't be written any better! Going through this article reminds me of my previous roommate! He always kept preaching about this. I most certainly will send this information to him. Pretty sure he will have a very good read. Many thanks for sharing!

    My page kacey18_videos.thumblogger.com

    ReplyDelete
  5. whoah this blog is magnificent i love reading your posts.
    Keep up the great work! You recognize, a lot of individuals
    are hunting around for this information, you could aid them greatly.


    Feel free to visit my webpage: link

    ReplyDelete
  6. Inspiring quest there. What occurred after? Good luck!


    my blog: page

    ReplyDelete

अतीत के पृष्ठों से - -