Friday, 4 October 2013

दोबारा मिलने का अरमान - -

न जाने फिर किस मक़ाम पे हो -
मुलाक़ात, कुछ मुस्कान
अपने साथ तो लेते
जाइए, मिलें
न मिलें
दोबारा, ये तो अख़तियार ए - - -
तक़दीर की है बात, फिर
भी, दोबारा मिलने
का अरमान,
अपने
दिल में लेते जाइए, कहने को ये -
दुनिया है बहोत ही उलझी हुई,
फिर भी इक मुश्त
आसमान,
मेरे हिस्से का अपने साथ तो लेते
जाइए - -
* *
- शांतनु सान्याल


http://sanyalsduniya2.blogspot.com/
feelings