Friday, 22 March 2019

दस्तक से पहले - -

हमेशा की तरह फिर हाथ हैं ख़ाली, अंजुरियों
से जो गुज़र गए उनका अफ़सोस नहीं,
कुछ नेह रंग यूँ घुले मेरी रूह में
कि चाह कर भी अब उनसे
निजात नहीं, न जाने
कितनी बार ओढ़ी
है ख़्वाबों के
पैरहन,
ये ज़िन्दगी फिर भी लगे है इक ख़ूबसूरत - -
उतरन। सूखे पत्तों का वजूद जो भी
हो, मौसम को तो है हर हाल में
बदलना, मेरे घर का पता
तुम्हें याद रहे या न
रहे, हर मोड़ पर
है कहीं न
कहीं
पुरअसरार दहलीज़ ! ऐ दोस्त, दस्तक से पहले
ज़रा संभलना। सूखे पत्तों का वजूद जो
भी हो, मौसम को तो है हर हाल में
बदलना।

* *
- शांतनु सान्याल

18 comments:

  1. सुन्दर। होली की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद - - नमन सह।

      Delete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (23-03-2019) को "गीत खुशी के गाते हैं" (चर्चा अंक-3283) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद - - नमन सह।

      Delete

  3. जय मां हाटेशवरी.......
    आप को बताते हुए हर्ष हो रहा है......
    आप की इस रचना का लिंक भी......
    24/03/2019 को......
    [पांच लिंकों का आनंद] ब्लौग पर.....
    शामिल किया गया है.....
    आप भी इस हलचल में......
    सादर आमंत्रित है......
    अधिक जानकारी के लिये ब्लौग का लिंक:
    https://www.halchalwith5links.blogspot.com
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद - - नमन सह।

      Delete
  4. आपकी लिखी रचना "मुखरित मौन में" आज शनिवार 23 मार्च 2019 को साझा की गई है......... मुखरित मौन पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद - - नमन सह।

      Delete
  5. वाह्ह्ह अनुपम ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद - - नमन सह।

      Delete
  6. Replies
    1. असंख्य धन्यवाद - - नमन सह।

      Delete
  7. ये ज़िन्दगी फिर भी लगे है इक ख़ूबसूरत - -
    उतरन।
    बहुत सुन्दर... लाजवाब...

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद - - नमन सह।

      Delete
  8. बहुत खूब.... सादर नमस्कार

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद - - नमन सह।

      Delete
  9. बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद - - नमन सह।

      Delete

अतीत के पृष्ठों से - -