Tuesday, 19 March 2019

सुबह का फेरीवाला - -

हाशिए के लोग हमेशा की तरह हैं गुमशुदा,
अपनी अलग दुनिया में, वो आज भी
हैं बंजारे ऊँची इमारतों के नीचे,
न जाने कौन अलसुबह,
फिर ख़्वाबों के
इश्तहार
लगा गया, फिर मासूम मेरा दिल दौड़ चला
है, दिलफ़रेब, चाहतों के पीछे। क़ातिल
है, या मसीहा, ख़ुदा बेहतर जाने,
सुना है कोई जादू है, उसके
लच्छेदार बातों के
पीछे। चलो
फिर
तुम्हारे वादों पे यक़ीन कर लें, ज़िन्दगी को
कुछ पल ही सही आराम मिले, दवा है
या सुस्त ज़हर किसे ख़बर उन
नाम निहाद राहतों के
पीछे। वो आज भी
हैं बंजारे ऊँची
इमारतों के
नीचे।

* *
- शांतनु सान्याल

4 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 19/03/2019 की बुलेटिन, " किस्मत का खेल जो भी हो “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद - - नमन सह।

      Delete
  2. ,बहुत खूब ...होली की हार्दिक शुभकामनाये

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद - - नमन सह।

      Delete

अतीत के पृष्ठों से - -