शुक्रवार, 27 सितंबर 2019

सुलह कर लिया जाए - -

आसमानी मजलिस थी कोई, उठ गई अपने
आप सुबह से पहले, इक ख़ुमार सा है
बाक़ी दिलो जां में दूर तक, मानों
फिर डूबने की हो ख़्वाहिश,
किनारे के सतह से
पहले। मेरा
वजूद
जो भी हो ज़माने की नज़र में, तुम आज भी
हो पहलू में मेरे, किसी अमरबेल की
तरह, आग का कोई घेरा हो
या मौत का अंधा कुआं,
लगते हो मानों सभी 
इक अदद खेल
की तरह।
कहाँ
हासिल है मनमाफ़िक मुराद, फिर क्यूँ न - 
ज़िन्दगी से यूँ सुलह कर लिया जाए,
निगाहों के दरमियाँ रहे इश्क़ का
वसीयतनामा, फूल मिले या
काँटे, मुस्कुरा कर ख़ाली
दामन क्यों न भर
लिया जाए,
फिर
क्यूँ न ज़िन्दगी से यूँ सुलह कर लिया जाए। 

* *
- शांतनु सान्याल

4 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (28-09-2019) को " आज जन्मदिन पर भगत के " (चर्चा अंक- 3472) पर भी होगी।


    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं

अतीत के पृष्ठों से - - Pages from Past