Saturday, 10 August 2019

पारदर्शी वक्षस्थल - -

उन निःस्तब्ध क्षणों में, कुछ अदृश्य
अश्रु कण भी, निश्चित झरे मेरी
आँखों से, आँचल की थी
अपनी ही अलग
परिसीमा,
यूँ तो न जाने कितने पुष्प झरे, उन -
नाज़ुक शाखों से। मेरी चाहतों
का हासिल जो भी हो,
लेकिन, मेरी
प्रीत का
कोई हिसाब नहीं, आँखों की लिपि से
लिखी, उस गहन अनुभूति की
शायद, कोई किताब नहीं।
ईशान कोणीय मेघ
थे या घनीभूत
झंझावर्त,
बरसे लेकिन अपने ही शर्तों पर, यूँ -
तो सारा जिस्म था ज़ंजीरों से
जकड़ा हुआ, फिर भी यूँ
लगा सावनिया बूंदें
गिरें शीशे के
परतों पर।

**
- शांतनु सान्याल   

10 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 10/08/2019 की बुलेटिन, "मुद्रा स्फीति के बढ़ते रुझानों - दाल, चावल, दही, और सलाद “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद आदरणीय मित्र - - नमन सह।

      Delete
  2. बेहतरीन सृजन सर
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद आदरणीय मित्र - - नमन सह।

      Delete
  3. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद आदरणीय मित्र - - नमन सह।

      Delete
  4. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (12-08-2019) को "बने ये दुनिया सबसे प्यारी " (चर्चा अंक- 3425) पर भी होगी।

    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद आदरणीय मित्र - - नमन सह।

      Delete
  5. कोमल कल्पना

    ReplyDelete
    Replies
    1. असंख्य धन्यवाद आदरणीय मित्र - - नमन सह।

      Delete

अतीत के पृष्ठों से - -