Friday, 27 July 2018

विस्मृत संदूक - -

उभरते हैं यूँ कुछ अतीत के -
पृष्ठ दीर्घ निःश्वास से,
जीवन खोलता है
विस्मृत वृद्ध
संदूक
अपने आप से, सुप्त कहानियां,
डिंभक से कोष बने और
एक दिन पंख फैलाए
न जाने किस
ओर उड़
गए
मेरे पास से। गुल्लक मिट्टी का
था या शीशे का याद नहीं
मुझको, टूटा था वो
 बहुत पहले
किसी
शून्यता के अहसास से। ये - - 
अभिनंदन, फूलों के
सौगात कुछ
ग़ैर ज़रूरी
 से हैं,
यहीं कहीं था मैं, और वो सोचें
लौटा हूँ दीर्घ प्रवास से।

* *
- शांतनु सान्याल

No comments:

Post a Comment

अतीत के पृष्ठों से - -