Thursday, 5 October 2017

मुखौटों के परे - -

 ऊसर खेत, मेघविहीन आकाश और
सांझ बेला के यात्री, आईने के
इस पार हूँ मैं, और उस
पार मौन अट्टहास।
विवर्ण दीवारें,
उखड़ते
पलस्तर, जीर्ण शीर्ण अतीत का श्वेत 
श्याम अलबम, अधखुली खिड़की
से झांकता हो जैसे लौटता
हुआ मधुमास। तुम
साथ हो या नहीं,
अब जैसे
कोई
फ़र्क़ पड़ता नहीं, सांध्य आरती, देह
से उठता हुआ धुआं, लहरों पर
बहते हुए असंख्य प्रदीप,
क्रमशः चप्पुओं की
आवाज़ थमती
हुई, और
धीरे -
धीरे अंधकार, अस्तित्व को अपने में -
अन्तःसलिल करती हुई - - अब
सिर्फ़ है कुछ अपने पास, तो
वो है अवकाश ही
अवकाश।

* *
- शांतनु सान्याल