Tuesday, 30 September 2014

ख़्वाब कोई अंतिम पहर वाले - -

कदाचित वो बरसे, आधी रात महीन
मेघ बन कर, अस्तित्व मेरा
फिर बनना चाहे मरू -
उद्यान कोई !
निःशर्त
हो आँखों का मौन अनुबंध, आजन्म
किसी के लिए फिर जागे है दिल
में अरमान कोई ! उड़ रहे
हैं, रंगीन शलभ या
निगाहों में
तैरते
हैं, ख़्वाब कोई अंतिम पहर वाले, पास
रह कर भी न जाने क्यों इतना
है अनजान कोई ! बदल
तो लूँ ज़िन्दगी की
तमाम
नाकामियां, दर्द भरी परछाइयाँ, काश,
कहीं से मिल जाए, ख़ानाबदोश
मेहरबान कोई, अस्तित्व
मेरा फिर बनना चाहे
मरू उद्यान
कोई !

* *
- शांतनु सान्याल

http://sanyalsduniya2.blogspot.in/
art by lexy sundell