Friday, 13 March 2015

अभी अभी - -

है कोई ख़्वाब ख़ूबसूरत या तूने
अभी अभी, छुआ है मुझे
बेख़ुदी में, जो भी हो
रहने दे यूँ ही,
ये भरम
बरक़रार, कि अभी अभी मेरी -
पलकों पे है, झुकी हुई सी
तेरे रुख़ की परछाई,
अभी अभी
बेतरतीब टूट के बिखरे हों गोया
कुछ नाज़ुक बादलों के
साए, सुलगते
सीने में
फिर अचानक उभरा है कोई - -
लापता मरूद्यान !

* *
- शांतनु सान्याल



http://sanyalsduniya2.blogspot.in/
Glennda Field Fine Art.jpg 2.jpg