Tuesday, 4 November 2014

ज़रूरी नहीं - -

 उम्मीद के मुताबिक़, ज़रूरी नहीं
हर रिश्ते का बावफ़ा होना,
कहीं न कहीं इक
हलकी सी
ख़राश
तो लाज़िम है इश्क़ ए आईने में,
उम्र भर की इबादत भी न
थी क़ाबिल ए ऐतमाद,
मुमकिन कहाँ
पत्थरों
का यूँ ख़ुदा होना, उनका तक़ाज़ा
है बहोत जानलेवा, मांगते
हैं सांसों का हिसाब -
किताब, कोई
कैसे
समझाए उन्हें कितना मुश्किल -
है दिल से रूह ए इश्क़ का
जुदा होना, उम्मीद
के मुताबिक़,
ज़रूरी
नहीं हर रिश्ते का बावफ़ा होना -

* *
- शांतनु सान्याल
 

http://sanyalsduniya2.blogspot.in/
art by Justin Clements