Thursday, 13 November 2014

गुलमोहरी दुनिया - -

 ये सोच कर दिल को मिलती है बहोत
तस्कीन, उनकी आँखों में कहीं
आज भी बसती है इक
गुलमोहरी दुनिया,
वो आज
भी हैं माज़ी की तरह, बेइंतहा ख़ूबसूरत
ओ हसीन, यूँ तो वादियों में खिलते
रहे न जाने कितने ही  गुल -
नाशनास, कुछ ख़्वाब -
आलूद कुछ
हक़ीक़ी,
फिर भी कोई न बन सका, उन से बढ़
कर बेहतरीन - -

* *
- शांतनु सान्याल

http://sanyalsduniya2.blogspot.in/
Shirley Novak Paintings