Friday, 12 September 2014

तख़लीक़ ए साज़िश - -

वो तमाम वाक़िफ़ चेहरे, और
उनका यूँ ख़ूबसूरती से
रुख़ बदलना क्या
कहिए, जो
भी हो
तल्ख़ी ए ज़िन्दगी क्या चीज़
है, इस बहाने मालूम तो
हुआ, वो शख़्स
जो अक्सर
करता
रहा दावा, उम्र भर की दोस्ती
का, उसी ने बरख़िलाफ़
मेरे की थी तख़लीक़
ए साज़िश !
लम्हा
लम्हा सांसों में घुल कर, यूँ -
उसका रूह ए क़ातिल
में बदलना क्या
कहिए - -

* *
- शांतनु सान्याल

http://sanyalsduniya2.blogspot.in/
painting by artist Fabio Cembranelli