Wednesday, 6 August 2014

सब कुछ था उसमे लेकिन - -

कुछ रंगीन कांच के टुकड़े या
फ़र्श में बिखरे हुए हैं टूटे
ख़्वाब के आंसू,
लेकिन
शीशे की थी अपनी मजबूरी -
सो टूट गया, मेरे चेहरे
में वो अक्सर न
जाने क्या
ढूंढते
हैं, जबकि मुद्दतों से हमने - -
आईना नहीं देखा, वो
गुलदान था कोई
दिलकश, जो
ज़माने
से रहा दिल में क़ाबिज़, ये -
और बात है कि उसके
सीने में सजे थे
सिर्फ़
काग़ज़ के फूल, सब कुछ - -
था उसमे लेकिन ख़ुश्बू
ए वफ़ा न थी - -

* *
- - शांतनु सान्याल 


http://sanyalsduniya2.blogspot.in/
batik art