Thursday, 12 May 2011


गहराइयाँ

बंजर, अवहेलित, भावशून्य
निषिद्ध जीवन की पृथ्वी -
विलंबित निशा क्रंदित स्वप्न
विरोधाभास करते हैं, पीछा
एक दूसरे का सतत,
वहीँ कुछ ही दूर, उस मोड़ पर
अन्य जीवन अंकुरण की ओर
है अग्रसर, गर्भित शिशु
लेता है, सांस एक भावी सम्राट
की तरह, अपनी सिद्धांतों
से वो करेगा भविष्य रचना,
यहाँ स्वप्न करता है, अट्टहास
संपूर्ण रात्रि -
करीब ही
उस द्वार के भीतर, एक
व्यसनी पति पूछता है प्रमाण
बच्चे के पिता का, बरसों पहले
उसने ही पत्नी को किया था मजबूर
अनैतिक सम्बन्ध के लिए,
यहाँ गर्भित शिशु अँधेरे में खोजता है
टूटे हुए सांसों की डोरी,
स्वप्न हर हाल में जीती है,ज़िन्दगी,
रात रुके न रुके, सुबह खड़ी है लेकिन
क्षितिज पर -

--- शांतनु सान्याल  

Friday, 6 May 2011


नज़्म 

इतना न चाहो मुझे

के भूल जाऊं ये कायनात

अभी तो तमाम उम्र बाकी है

थमी थमी सी साँसें

बहकते जज्बात ज़रा रुको

अभी  तो इश्क-ए असर बाकी है

टूट के बिखर न जाये कहीं

हसरतों के नायब मोती

अभी तो जहाँ की नज़र बाकी है

वजूद से कुछ फास्लाह रहे

इक हलकी सी चुभन दरमियाँ हो

अभी तो लम्बी सी रहगुज़र बाकी है

شانتنو سانيال ----शांतनु सान्याल


ज़िन्दगी

रहनुमाह थे बहोत, मगर हमसफ़र कोई नहीं
तनहा तनहा चलता रहा,इक नदी के हमराह
कभी इस किनारे कभी उस तरफ रहगुज़र कोई नहीं
इक पुल हुवा करता था, कभी दो साहिलों के दरमियाँ
बेनिशान थे नदी के धारे, हद ए नज़र कोई नहीं
हर सिम्त थी इक अजीब सी ख़ामोशी, तलातुम ठहरा हुवा
मेरा साया दग़ा देता रहा, साथ उम्र भर कोई नहीं /
---शांतनु सान्याल

चलो खो जाएँ ---

दिल चाहे आज, खो जाएँ कहीं
दूर नीली वादियों में-


तिलिस्मी चाँद, निशाचर पखेरू,
अनजान खुशबु-


अरण्य फूलों की,यायावर ख्यालात
और तुम हो साथ,


न करो तुम मुझसे कोई सवालात, 
न मैं ही जवाब दूँ /


किरणों के रास्ते, अरमानों के हमराह, 
कोई और जहाँ, चलो खो जाएँ


चलो तलाश करें, उफक से कहा है
रोक ले सुबह को,


उम्र भर ये रात रहे बरक़रार,
अपनी मुहोब्बत की तरह /
---शांतनु सान्याल
खामोश निगाहों की जुबान
और दिल की गहराइयाँ,
मुस्कानों का दर्द और
हसने की वो मजबूरियां,
किसे छोड़े किसे अपनाएं
नज़दीक हैं सभी परछाईयाँ
अंतहीन रिश्तों की चाहत
और निगलती तन्हाईयाँ,
ओ मुखातिब हैं निगाहों के
और रेत भरी वक़्त की आंधियां /
--- शांतनु सान्याल



कुछ पल विशेष


१.फिर महके महुवा वन, दूर छितिज में खोया मन
आदिम झरना,गहन अरण्य,ओ चाहें आत्मसमर्पण //
सजल नेह, प्रतिबिंबित प्रणय, उत्कंठित सांध्य प्रदीप
निशिपुष्प देह झकझोरे,उद्वेलित बाह्य अंतर दर्पण //
२.आग्नेयगिरी सम रह रह कर, हिय में उठे अभिलाष
बन श्रावणी मेघ सघन, बरसो तुम उन्मुक्त आकाश //
अभिशापित जीवन,तृषित ह्रदय, सुप्त हास परिहास
मुक्त करो अप्रत्यासित, मम स्मृति मोहपाश //
३.प्रतिध्वनित मौन --- मधु यामिनी शेष
आलिंगन बध्द देह --- छिन्न भिन्न अवशेष
परित्यक्त वासना ----- कुछ पल विशेष
शून्य जीवन परिधि --- नग्न सत्य परिवेश
प्रणय विनिमय ----- मधुरिम दीर्घ क्लेश //
----शांतनु सान्याल


ग़ज़ल

ज़रा सी बात थी इशारों से कहा होता
हजूम सा था हद-ए-नज़र तमाशाई
हम डूब के गुज़रते जानिब-ए-साहिल
राज़-ए-उल्फत किनारों से कहा होता
तमाम रात चांदनी सुलगती रही
इज़हार-ए-वफ़ा आब्सारों से कहा होता
गुमसुम सा आसमाँ तनहा तनहा
तड़प दिल की चाँद तारों से कहा होता
हवाओं में तैरती तहरीर-ए-इश्क
आँखों की बातें बहारों से कहा होता
हम जान लुटाये बैठे हैं
इम्तहान-ए-अज़ल अंगारों से कहा होता /
--शांतनु सान्याल

कुछ गुमनाम पन्ने---

इक लम्बी, खट्टी मीठी सी ज़िन्दगी
और लुकछुप करता बचपन-
पहाड़ी झरने की मानिंद बिखरते लम्हात
रेत पे लिख लिख कर किसी का नाम,
मुस्कराके मिटा देना --
अपनी ही परछाइयों से सहमते हुए
ज़माने के तमाम पहरे को
मुंह चिड़ाना, ओ खुबसूरत यादें --
शाम ढलते टूटे मंदिर के जानिब
दीप जलाने के बहाने
निगाहों से दिल की बात कहना
न कोई हसरत, न ही तकाज़ा
मासूम जज्बात, इश्क की बुनियाद
ओ ख्वाब जो कभी हकीक़त में ढल न सके -
ज़िन्दगी इक किताब जिसे पढ़ न सका कोई
पन्ने अपने आप जुढ़ते गए, दिन ब दिन-
मौसम की तरह रिश्तों के रंग, बदलते रहे
चाहत के तलबगार एक लम्बी फेहरिश्त -
हर कोई चाहे ढल जाऊं उसके सांचे में,
काश ओ गुमनाम पन्ने, किसीने पढ़ा होता
इक ग़ज़ल जो लबों पे आकार बिखर गयी वादियों में
आज भी फूल ओ खुशबुओं में उसके अक्श हैं मौजूद
वक़्त मिले कभी तो तलाश कीजिये
कुछ गुमनाम पन्ने--हवाओं में तैरती तहरीरें,
बादलों में पैगाम-ए मुहोब्बत, ओ इज़हार-ए-वफ़ा
जो कांच की तरह नाज़ुक, लेकिन बेदाग़ मुक़द्दस था /
----शांतनु सान्याल
अपरिभाषित
सुदूर धूसर पहाड़ियों में, जब कभी दावानल धधक उठतें हैं ,
इक अजीब सी बेचैनी दिल के अन्दर होती है -
ओ फाल्गुनी रातें ,गर्म साँसों की तरह बहती बयारें
मध्य निशा ,रह रह कर चीखते मृग दल
सरसराते पीपल के सघन पत्ते , छाया पखेरू
थम थम कर रजनीगंधा का महकना
दूर तक परछाइयों का लगातार पीछा करना
ज़िन्दगी और मैं अक्सर अकेले में बातें करतें हैं
हिसाब करना बहोत ही मुश्किल है किसने, किसे, क्यों ?
मंज़िल से पहले ही धीरे से , खामोश चलते चलते
यूँ रास्ता बदल लिया अपना , जैसे कोई गुलदान टूट जाए
और हम कहें जाने भी दो ,शीशा ही था टूट गया -
टूटे रिश्ते और पहाड़ों में धधकती आग
बरसात का इंतजार नहीं करते
कौन किस गली में मिल जाये बादलों की तरह
जिसे बरसना है वो वादी और सेहरा में फर्क नहीं करते
हमें भी जीना है चाहे रात लम्बी हो या चंद लम्हात की
हिरण की दर्द भरी चीखें काश हम समझ पाते /
----शांतनु सान्याल
जाने किस ओर मुड़ गए वो सभी बंजारे बादल
देख सूखी रिश्तों की बेल, हम बहुत परेशां हुए
जोगी जैसा मासूम चेहरा, मरहमी दुवागो हाथ
आमीन से पहले,जाने कब व् क्यों लहुलुहान हुए
बूढ़ा बरगद, सुरमई सांझ, पक्षियों का कोलाहल
पलक झपकते, जाने क्यों ये  सब सुनसान हुए
खो से गए कहीं दूर, मुस्कराहटों के वो झुरमुट
आईने का शहर, और भीड़ में हम अनजान हुए
स्याह , खामोश, बेजान, बंद खिड़की ओ दरवाज़े
संग-ए-दिल,मुस्ससल दस्तक, हम पशेमान हुए
ज़िन्दगी भर दोहराया,आयत,श्लोक, पाक किताबें
मासूम की चीख न समझे,जी हाँ सभी बेईमान हुए
जाने किस देश में बरसेंगे मोहब्बत के गहरे बादल,
ज़मीं,गुल-ओ-दरख़्त,लेकिन अभी तो वीरान हुए .
----शांतनु सान्याल

एक लम्बी रात रहस्मयी

धूमिल आकाश, सूर्य अस्तगामी
अलस मरुभूमि,सांझ बोझिल
प्रवासी विह्ग, अन्तरिक्ष विशाल
कुछ अवाक चेहरे, अनजान शहर
अज्ञात भविष्य, बूँद बूँद स्मृति
देश,माटी,नदी,पहाड़,समुद्र,वर्षा
शरत, चन्द्रमा,और अश्रु घनीभूत
मौसमी पुष्प, सुवासित वातायन
बच्चों की किलकारियां, अतुलनीय
माँ की झिड़क, और आलिंगन
जन अरणय, रेल का गुज़ारना
उदास आँखों से छुटता अपनापन
विमान का अकस्मात् उड़ना
और एक लम्बी रात रहस्मयी /
---शांतनु सान्याल

वक़्त के पहले

वक़्त के पहले 

इक उम्र से तलाश थी जिसकी
निग़ाह दर निग़ाह भटकते रहे हम

वो जो मेरे अश्क से था तर ब तर
दिल के किसी कोने में छुपा हुआ
गुम सुम सा डरा डरा - - - - - -
इक ख्याल, कमसिन अहसास
दरवाज़े के इक कोने में
किसी नादान बच्चे की तरह
अक्सर छुप कर लिबास बदलता हुआ
दुनिया की निगाहों से बचता रहा
आज बात कुछ और है,
वो  नन्हा सा मासूम कहीं खो सा गया

अब वो खुद को देखता है,
बेलिबास आईने के सामने  -
और अपनी शख्सियत  को सजाता है,
दरवाज़े के बाहर बेचने के लिए
ज़माने ने  उसे वक़्त के पहले ही
जवान बना छोड़ा ,
--शांतनु सान्याल

Thursday, 5 May 2011

ज़िन्दगी

इक लम्बी, खट्टी मीठी सी ज़िन्दगी
और लुकछुप करता बचपन-
पहाड़ी झरने की मानिंद बिखरते लम्हात
रेत पे लिख लिख कर किसी का नाम,
मुस्कराके मिटा देना --
अपनी ही परछाइयों से सहमते हुए
ज़माने के तमाम पहरे को
मुंह चिड़ाना, ओ खुबसूरत यादें --
शाम ढलते टूटे मंदिर के जानिब
दीप जलाने के बहाने
निगाहों से दिल की बात कहना
न कोई हसरत, न ही तकाज़ा
मासूम जज्बात, इश्क की बुनियाद
ओ ख्वाब जो कभी हकीक़त में ढल न सके -
ज़िन्दगी इक किताब जिसे पढ़ न सका कोई
पन्ने अपने आप जुढ़ते गए, दिन ब दिन-
मौसम की तरह रिश्तों के रंग, बदलते रहे
चाहत के तलबगार एक लम्बी फेहरिश्त -
हर कोई चाहे ढल जाऊं उसके सांचे में,
काश ओ गुमनाम पन्ने, किसीने पढ़ा होता
इक ग़ज़ल जो लबों पे आकार बिखर गयी वादियों में
आज भी फूल ओ खुशबुओं में उसके अक्श हैं मौजूद
वक़्त मिले कभी तो तलाश कीजिये
कुछ गुमनाम पन्ने--हवाओं में तैरती तहरीरें,
बादलों में पैगाम-ए मुहोब्बत, ओ इज़हार-ए-वफ़ा
जो कांच की तरह नाज़ुक, लेकिन बेदाग़ मुक़द्दस था /
----शांतनु सान्याल

Wednesday, 4 May 2011

काश जान पाते qaash hum jaan pate

वो आदमी जो फूटपाथ पे
وو  آدمی  جو  فوٹ پاتھ  پے   


रात दिन, धुप छांव, गर्मी सर्दी
رات،  دیں ، دھوپ  چھاؤں 
अपने हर पल गुज़ार गया
اپنے  ہر  پل  گزار  گیا 
काश जान पाते उसके ख्वाबों में
قاش  جان  پاتے اسکے  خوابوں  میں 
ज़िन्दगी का अक्श क्या था //
زندگی  کا  اقص  کیا  تھا
वो शक्स रोज़ झुकी पीठ लिए
وو شقص  روز جھکی پیٹھ  لئے
बड़ी मुश्किल से रिक्शा चलाता हुवा
باڈی  مشکل سے اکشا  چلاتا  ہوا   
कल शाम गिर कर उठ न पाया
کل شام  گر کر اٹھ  نہ  پایا 
काश जान पाते कभी उसके दिल में
قاش جان پاتے  کے اسکے  دل  میں
सुबह की तस्वीर क्या थी //
صبح  کی  صراط  کیا  تھی 
वो चेहरा गुमसुम रेस्तरां में
وو  چہرہ  گمسم  ریستراں میں
आधी रात ढले काम करता रहा
آدھی رات  کام  کرتا  رہا 
उम्र भर गालियाँ सुनता रहा
عمر بھر گالیاں  سنتا  رہا  
काश जान पाते उसके बचपन के
قاش  جان  پاتے کہ  اسکے  بچپن  کے  
हसीं लम्हात क्या थे //
حسیں لمحات  کیا تھے 
एक बूढ़ा माथे पे बोझ लादे हुए
ایک بوڑھا ماتھے  پے  بوجھ  لادے  ہے 
मुक्तलिफ़ रेलों का पता देता रहा
مختلف ریلوں  کا پتہ  دیتا  رہا  
मुद्दतों प्लेटफ़ॉर्म में तनहा ही रहा
مدّتوں  پلاتفارم میں  تنہا   ہی  رہا
काश जान पाते उसकी
قاش  جان  پاتے  اسکی
मंज़िल का पता क्या था //
مزل کا  پتہ  کیا  تھا
शहर के उस बदनाम बस्ती में
شہر  کے  اس  بدنم  بستی  میں
पुराने मंदिर के ज़रा पीछे
پرانے  مندر  کے  ذرا  پیچھے
मुगलिया मस्जिद के बहोत करीब
مغلیہ  مسجد  کے  بھوت  قریب
शिफर उदास वो बूढी निगाहें
شیفر  اداس  وو  بوڑھی  نغاہیں
तकती हैं गुज़रते राहगीरों को
تکتیں  گزرتے  راہ گیروں  کو 
काश जान पाते उसकी नज़र में
قاش  جان  پاتے  اسکی  نظر  میں
मुहब्बत के मानि क्या थे //
مھوبّت  کے مانی  کیا تھے
वृद्धाश्रम में अनजान
وریدحہٰ آشرم میں  انجان
भूले बिसरे वो तमाम आँखें
بھولے  بسرے  وو  تمام  آنکھے
झुर्रियों में सिमटी जिंदगी
جھرریوں  میں  سمٹی  زندگی
काश जान पाते, वो उम्मीद की गहराई
قاش  جان  پاتے  وو امید  کی  گہری
जब पहले पहल तुमने चलना सिखा था //
جب  پہلے  پھل  تھمنے  چلنا  سیکھا  تھا
वो मुसाफिरों की भीड़ , कोलाहल
وو  مسافروں  کی بھیڑھ، کولاحال
जो बम के फटते ही रेत की मानिंद
جو  بم  کے پھٹے  ہی  ریت  کی مانند
बिखर गई खून और हड्डियों में
بکھر گئی  خون  اور  ہددیوں میں
काश जान पाते के, उनके लहू
قاش  جان  پاتے  انکے  لہو
का रंग हमसे अलहदा न था //
کا رنگ  ہمسے  الحدا  نہ  تھا
सिसकियों की ज़बाँ भी होती है
سسکیوں  کی  بھی  زباں  ہوتی  ہے 
करवट बदलती परछाइयाँ
کروٹ بدلی  پرچھائیاں  
और सुर्ख भीगी पलकों में कहीं ,
اور  سرخ  بھیگی  پلکوں  میں  کہیں
काश हम जान पाते खुद के सिवाय
قاش  ہم  جان  پاتے  خود  کے  صوا
ज़माने में ज़िन्दगी जीतें हैं और भी लोग //
زمانے  میں  زندگی  جیتیں  ہیں  اور بھی  لوگ 


شانتانو  سانیال - 
शांतनु सान्याल