Wednesday, 9 March 2011

ग़ज़ल

ग़ज़ल
ये इंद्रजाल सा आकाश, अधखुली सीप सा मन
झांकती हैं नन्हीं सी किरण, अँधेरे के आर पार,
कोई मासूम हथेली छुपाये रखे हों जैसे जुगनू
उँगलियों के दरारों से जो निकल जाएँ  बार बार,
 ख़ुशी की उम्र बढ़ न पाई सींचा उसे निशि दिन
बौने पौधों में न फूल खिले, लौटती रहीं बहार,
जीवन के ताने बाने में बिनीं रेशमी सपनों की
डोरी, हर वक़्त संवारा प्रति पल टूटे तार तार ,
रात गुज़रे कौन रंग जाता है रोज़ पूरब की रेखा
अनचाहे न जाने रोज़ दे जाता है,जीवन उधार,
ये सलीब रहा ज़िन्दगी भर मेरा जिगरी दोस्त
कांधे के सिवाय इसका नहीं कोई भी आधार ,
कहाँ छोड़ आऊं उम्मीद भरे ये इर्द गिर्द चेहरे
उदास लम्हों में भी मुस्कुराते हैं ये बेरंग दीवार,
--- शांतनु सान्याल