Wednesday, 28 July 2010

परिचय


परिचय
एक विस्तृत महासंस्कृति बृहत् नभ सम-
वेदों से उज्जवलित, अग्निशिखा प्रिय देश मम,
महासिंधु सम गहरा अज्ञात जिसका उद्गम
पूर्ण ब्रम्हांड अंतर्निहित,सुहृदय प्रिय देश मम,
-- शांतनु सान्याल