Follow by Email

Monday, 29 November 2010

क्षणिका

सजल नयन थे ढूंढ़ न पाए हम तुमको
कुहासे  में ढक चुकी थीं पुष्प वीथिका,
अभिसारमय थे निशीथ व् ज्योत्स्ना
खिले थे हर दिक् मालती व् यूथिका,
कण कण में थे ज्यूँ  सोमरस घुले हुए
रौप्य या स्वर्ण रंगों में थी मृतिका,
विचलित ह्रदय एकाकी हंस अकेला
टूट बिखर जाय जैसे कोई वन लतिका,
-- शांतनु सान्याल